समर्थन मूल्य पर धान खरीदी से पहले त्रुटी सुधार के निर्देश

रायपुर- छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से समर्थन मूल्य पर किसानों से धान खरीदी की जानी है , इसके लिए खाद्य मंत्री अमर सिंह भगत ने अपने निवास कार्यालय सरगुजा कुटीर में विभागीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक लिया। जहां खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तैयारियों की विस्तारपूर्वक समीक्षा की।

खाद्य मंत्री अमर सिंह भगत ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि विभिन्न जिलों से किसानों के पंजीयन संबंधित शिकायतें आ रही है। पंजीयन संबंधी तकनीकी त्रुटि में शीघ्र सुधार कर लिया जाए ताकि निर्धारित समय सीमा पर बिना किसी परेशानी के किसान अपना धान का बिक्री कर सकें।

इसे भी पढ़ें -घर बैठे बी -1 खसरा डाउनलोड कैसे करें

कहाँ से होगा त्रुटी सुधार -

सत्र 2020-21 में किसानों का पंजीयन सम्बन्धी जानकारी चेक करने के लिए शासन द्वारा cg khadya.nic.in सुविधा उपलब्ध करवाया गया था ,परन्तु इस सत्र के लिए अभी तक ऐसी कोई सुविधा शासन द्वारा शुरू नही किया गया है ,जिससे की पता चल सके किसी किसान का पंजीयन कितने रकबे का हुआ है |

यदि कोई किसान पंजीयन सम्बन्धी त्रुटी का सुधार कराना चाहता है ,तो जहाँ से पंजीयन कराए हैं ,वहीं से सुधार भी करा सकते है |

इसे भी पढ़ें - भू नक्शा डाउनलोड कैसे करें

छत्तीसगढ़ में 1 दिसंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी-

खाद्य मंत्री अमर सिंह भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की घोषणा के अनुरूप 1 दिसंबर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का कार्य किया जाना है। इसलिए सभी प्रकार की कमियों को दूर कर लिया जाए ताकि किसानों को धान विक्रय में किसी प्रकार की परेशानी न हो।

 अन्य राज्यों से अवैध धान परिवहन की कड़ी निगरानी-

समीक्षा बैठक के दौरान खाद्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश के सीमावर्ती इलाकों में अन्य राज्यों से अवैध परिवहन की शिकायतें मिलती रहती है इसलिए अभी से सीमावर्ती इलाकों में इसके लिए कड़ी निगरानी सुनिश्चित की जाए।

इसे भी पढ़ें -डायवर्सन के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें 

105 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी का लक्ष्य-

खाद्य मंत्री अमर सिंह भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा 105 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी का अनुमान है।

धान खरीदी में बारदानों की उपलब्धता के संबंध में भी खाद्य मंत्री ने समीक्षा किया तथा अधिकारियों को निर्देश देते हुए उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा । उन्होंने बारदाने की नियमित आपूर्ति हेतु जुट कमिश्नर से सतत समन्वय बनाए रखने,  राइस मिलरों से बारदानों की व्यवस्था, प्रदेश के उचित मूल्य की दुकानों से मिलने वाले बारदाने की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा।

इसे भी पढ़ें -नामांतरण के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें

धान खरीदी केंद्रों पर पानी, बिजली तथा बैठने आदि की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश-

 समीक्षा बैठक के दौरान खाद्य मंत्री ने कहा कि धान खरीदी केंद्रों पर धान बेचने वाले किसानों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो इसके लिए समिति बिजली पानी बरसने आदि की व्यवस्था दुरुस्त करें। इसके अलावा खरीदी से संबंधित आवश्यक तैयारी जैसे कंप्यूटर ऑपरेटर इंटरनेट एवं कर्मचारियों की पर्याप्त व्यवस्था, आस-पास के संग्रहालय दरों की जानकारी, धान खरीदी केंद्रों के देखरेख के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों द्वारा नियमित मॉनिटरिंग आदि सुनिश्चित कर ली जाए।

इसे भी पढ़ें-रेगा जॉब कार्ड सूची में अपना नाम कैसे ढूंढें तथा काम का व्यौरा पता करें 

 लगभग दो लाख में किसानों का पंजीयन-

 खरीफ विपणन 2021-22 में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी हेतु लगभग दो लाख नये किसानों ने पंजीयन कराया है। इस प्रकार प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान विक्रय के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या लगभग 22 लाख 66 हजार से अधिक हो गई है।

Post a Comment

0 Comments