क्या कक्षा आठवीं तक पूर्व की भांति परीक्षाओं का आयोजन कर पास फेल करने की व्यवस्था एवं कक्षा तीसरी, पांचवी एवं आठवीं में बोर्ड परीक्षा लागू कर देनी चाहिए?

हेलो फ्रेंड्स, जैसा की आपको विदित है , शिक्षा के अधिकार अधिनियम के अंतर्गत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को फेल नहीं करने की नियम लागू की गई है। हालांकि इसके पीछे कई अच्छे उद्देश्य एवं  सोच को लेकर यह व्यवस्था लागू की गई थी, परंतु जमीनी स्तर पर इसका विपरीत प्रभाव परिलक्षित होता नजर रहा है।

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को फेल नहीं करने के नियम लागू होने के बाद से शिक्षा गुणवत्ता में सुधार होने के स्थान पर शिक्षा गुणवत्ता में गिरावट देखा जा रहा है, इसका ताजा उदाहरण असर सर्वे  रिपोर्ट, जिसमें छत्तीसगढ़ की स्थिति संतोषजनक नहीं है। 

कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों के लिए फेल पास का नियम लागू करने राज्य कार्यालय द्वारा कराया जा रहा है सर्वे-

कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को फेल नहीं करने के नियम लागू होने के बाद से ही आम लोगों और कुछ शिक्षकों का मानना है कि इस नियम बंद कर देना चाहिए और पहले जैसे फेल पास के नियम लागू करना चाहिए।  ताकि बच्चों में पढ़ाई के प्रति जो सोच बन चुकी है कि उन्हें तो फेल नहीं किया जाएगा,यह भावना उनके मन से समाप्त हो जाएगा और वे पढ़ाई के प्रति ध्यान देंगे। 

इसके लिए राज्य परियोजना कार्यालय द्वारा एक सर्वे कराया जा रहा है।  सर्वे के आधार पर कक्षा आठवीं तक पूर्व की भांति परीक्षाओं का आयोजन कर पास फेल करने की व्यवस्था को बहाल किया जा सकता है। यदि आपको भी लगता है कि कक्षा आठवीं तक की परीक्षाओं में पास फेल करने की व्यवस्था को पुनः बहाल किया जाए , इसके लिए आपको सर्वे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर सबमिट करना चाहिए।

सर्वे के आधार पर कक्षा तीसरी,पांचवी एवं आठवीं में लागू की जा सकती है बोर्ड परीक्षा-

राज्य परियोजना कार्यालय द्वारा जो सर्वे कराया जा रहा है, उसमें ज्यादातर लोगों का विचार यदि परीक्षा में पास फेल का नियम लागू करने के संबंध में आता है, उस स्थिति में कक्षा तीसरी पांचवी एवं आठवीं में बोर्ड परीक्षा लागू किया जा सकता है। 

शिक्षक, परीक्षा में पास फेल करने सम्बन्धी सर्वे में यहाँ से submit करें अपना जवाब -

स्टेप 1- इसके लिए आपको पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल के डेश बोर्ड पर जाना होगा। सबसे पहले अपने एंड्राइड मोबाइल के ब्राउज़र को ओपन करना है तथा उसके सर्च बार में cg school.in टाइप कर सर्च करना है। इस तरह पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल का ऑफिशियल वेबसाइट प्रदर्शित होने लगेगा आपको उस पर क्लिक करना है।

स्टेप 2- अब पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल का होम पेज स्क्रीन पर प्रदर्शित होने लगेगा, आपको इस पेज में दिए गए लॉगिन के इंटर फेस पर क्लिक करना है। इसके बाद आईडी और पासवर्ड दर्ज कर लॉगिन हो जाना है।

स्टेप 3- लॉग इन करने के पश्चात आपको डैशबोर्ड पर ही उक्त सर्वे दिखाई देने लगेगा। क्या हमें कक्षा आठवीं तक पूर्व की भांति परीक्षाओं का आयोजन कर पास फेल करने की व्यवस्था एवं कक्षा तीसरी, पांचवी एवं आठवीं में बोर्ड परीक्षा लागू कर देनी चाहिए?  आपको yes या no में जवाब देना है।


👉सर्वे में भाग लेने के लिए यहाँ क्लिक करें 

इस आर्टिकल को अधिक से अधिक शिक्षकों को शेयर जरूर करें, ताकि कक्षा आठवीं तक बोर्ड परीक्षा लागू करने के संबंध में अधिक से अधिक शिक्षकों का जवाब राज्य कार्यालय तक पहुंच सके। इसके साथ -साथ नीचे दिए गये कमेन्ट सेक्शन में भी कक्षा आठवीं तक के परीक्षा में फेल पास करने के सम्बन्ध में आपका क्या विचार है , हमें जरुर भेजें |

Post a Comment

1 Comments