स्वस्थ रहने के सरल उपाय।helth tips - हमर गांव

Latest

Thursday, 13 September 2018

स्वस्थ रहने के सरल उपाय।helth tips




वर्तमान समय मे  प्रत्येक व्यक्ति अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहता है।विभिन्न प्रकार के दवाइयों का सेवन करता रहता हैं।जिससे शरीर को और हानि पहुंचता है  अपने दिनचर्या में थोड़ा बदलाव लाएं और इन सुझावों पर जरूर अमल करें।इस पोस्ट के माध्यम से कुछ सरल उपाय सुझाए गए हैं।



1.पसीना बहाएं-स्वस्थ रहने का सबसे सरल और आसान तरीका है ।पसीना शरीर से बाहर निकाला जाए अर्थात  मेहनत किया जाए।

वर्तमान समय मे लोगों के जीवन स्तर में बदलाव आया है लोग सुविधा भोगी हो गए हैं ,जिसे भी देखो आराम मिलने वाला कार्य ही  चुनता है  जैसे पूरे दिन कुर्सी पर बैठकर कार्य करना या ऐसे स्थान पर कार्य करना जिससे धूप से बचे रहे।इससे हमारे शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।


पसीना बहने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है इसके  लिए या तो आप घर मे  कसरत कर सकते हैं या जिम जा कर पसीना बहा सकते हैं।


पर मेरा व्यक्तिगत मानना है कि घर मे किसी ऐसे कार्य को किया जाए जिससे आपके शरीर का व्यायाम भी हो जाये,पसीना भी शरीर से निकल जाए और वह कार्य भी सम्पन्न हो जाये।



गांव के लोग ज्यादा स्वस्थ्य नजर आते हैं इसका कारण है उनका शारीरिक मेहनत ।इस लिए यथा सम्भव शारीरिक मेहनत जरूर करें जिससे शरीर से पसीना बहे।


2.सुबह स्नान-यदि आप अपने शरीर को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो आपको अपने आदत में एक बात और शामिल करना चाहिए। चाहे कोई भी मौसम हो ,बरसात हो या गर्मी के दिन हो या शर्दी का मौसम हो सुबह ही स्नान करना चाहिए।


कभी सुबह स्नान करना ,कभी देर से स्नान करना शरीर के ठीक नही होता है।  प्रतिदिन सूर्योदय से पहले स्नान करने का जिनका भी आदत होता है ऐसे लोगों का शरीर बहुत ही मजबूत होता है। ऐसे लोगों के शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता अन्य लोगों के तुलना में अधिक होती है।







3.सात्विक भोजन- एक कहावत तो आपने सुना ही होगा  'जैसा अन्न वैसा तन' अर्थात आप जैसा आहार लेंगे आपका शरीर वैसा ही रहेगा।

कुछ लोग मानते हैं कि अंडा ,मांस आदि खाने से शरीर मजबूत रहता है पर सभी इस बात से परिचित होते हैं कि ज्यादा मसालेदार सब्जी शरीर के लिए नुकसान दायक होता है।


सादा भोजन उच्च विचार कहा जाता है ।आप जैसा खाएंगे वैसा ही आपका विचार होगा। प्रकृति जिन चीजों को हमारे  खाने के लिए बनाया है उन चीजों का ही सेवन सर्वोत्तम है।भोजन अच्छी तरह चबा कर खाएं।तेल युक्त चीजों के सेवन से परहेज करें।



4.सकारात्मक सोंच- किसी भी व्यक्ति को सिर्फ तन से ही नही मन से भी स्वस्थ्य होना जरूरी है,क्योकि मन शरीर को प्रभावित करता है और शरीर मन को ।



हमेशा सोंच को सकारात्मक रखें ।ज्यादा नकारात्मकता शरीर और मस्तिष्क दोनों के लिए नुकसान दायक है। 


ज्यादा चिंता या तनाव शरीर को हानि पहुंचाता है,आमतौर पर  देखने को मिलता है कि वही व्यक्ति ज्यादातर अस्वस्थ्य होता है जो बहुत ज्यादा तनाव में होते हैं ।


इस लिए अपने सोच को सकारात्मक जरूर रखें।




5.प्रयाप्त नींद लें-स्वस्थ रहने के लिए प्रयाप्त नींद लेना आवश्यक है ।समय -बेसमय सोना या जगना शरीर को नुकसान पहुंचाता है।पाचन शक्ति को प्रभावित करता है।


शहरों में खासकर लोगों का दिनचर्या प्रकृति के अनुसार न होकर ठीक उसके उल्टा हो गया है।शहरों में रात के 11-12 बजे तक लोग सोते नहीं है और सुबह के 8-9 बजे तक सोते रहते हैं या सुबह जल्दी जग जाते हैं जिससे  नींद पूरी नही हो पाती है। अतः शरीर मे व्याधि उतपन्न होता है। 


ऐसे ही ज्यादा सोना भी शरीर को हानि पहुंचता है।इस लिए बेहतर यह होगा कि समय पर सोयें और समय पर जग जाएं।


6.खुलकर हंसें-स्वस्थ्य शरीर के लिए आवश्यक है कि खुलकर हंसा जाए।हंसने से शरीर स्वस्थ रहता है क्योंकि हंसने से शरीर से तनाव कम होता है।

शहरों में इसके लिए लॉफिंग क्लब होता है जो लोगों को हंसाने का काम करता है ।आप सभी इस बात से जरूर परिचित होंगे कि हंसने के कई फायदे हैं।




 उपरोक्त सभी सुझाव सरल और आसान है इसे दिनचर्या में शामिल करने मात्र की आवश्यकता है । आप लोगों को  यह helth tips उपयोगी लगा हो तो शेयर जरूर करना ।यह helth tips कैसा लगा कमेंट के माध्यम से जरूर बताना ।






2 comments: